Essay On Corona Virus In Hindi: कोरोना वायरस निबंध हिंदी में

Essay On Corona Virus In Hindi: कोरोना वायरस निबंध हिंदी में
Essay On Corona Virus In Hindi

Essay On Corona Virus In Hindi: करोनावायरस पर निबंध हिंदी में, Essay on COVID-19 in Hindi 400 500 600 Words: कोरोना वायरस जिसे आमतौर पर COVID-19 के रूप में जाना जाता है, आपको बता दें कि यह एक बहुत ही खरनाक संक्रामक रोग है जो मनुष्यों में श्वसन प्रणाली में पर बुरा असर डालता है और इसके ख़राब कर देता है। कोविड 19 (Covid 19) एक ऐसा शब्द है जिसे “नोवेल कोरोना वायरस रोग 2019” से लिया गया है। कोरोना वायरस ने हमारे दैनिक जीवन को प्रभावित किया है। दुनिया भर में इस बीमारी से करोडो लोग प्रभावित हुए हैं जो या तो बीमार हुए हैं या फिर इस बीमारी के कारण अपनी जान से हाथ धो चुकें हैं।

COVID-19 एक बिलकुल नया वायरस है जो पूरी दुनिया को बुरी तरह प्रभावित कर रहा है। क्योंकि यह वायरस खास रूप से एक संक्रमित व्यक्ति के दूसरे स्वस्थ व्यक्ति के संपर्क में आने से फ़ैल रहा है। जो भी लोग 6 फीट से कम दूरी पर हैं तो यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। इस कोरोना ने कई देशों की अर्थव्यवस्था को बुरी तरह से धीमा कर दिया है।

COVID-19 के होने पर क्या होता है

इस वायरल संक्रमण के सबसे आम लक्षण बुखार, सर्दी, खांसी, हड्डियों में दर्द और सांस लेने में समस्या आदि दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। इसके अलावा इस वायरस की वजह से शरीर में थकान, गले में खराश, मांसपेशियों में दर्द, गंध या स्वाद की कमी जैसे लक्षण भी रोगियों में देखे जा सकते हैं।

COVID-19 से बचाव करना है जरुरी

इस वायरस से बचने के लिए कई तरह की सावधानी बरतने पर जोर दिया जाता है जैसे कि अपने हाथ साफ़ रखना, नियमित रूप से सैनिटाइज़र या साबुन से हाथ धोना, आमने-सामने बातचीत करते समय दूरी बनाये रखना, भीड़ वाली जगह पर दूरी बनाये रखना और मास्क पहनना आदि।

कोरोनावायरस की उत्पत्ति 

कोरोनावायरस ( COVID-19) की पहचान पहली बार चीन के वुहान शहर में दिसंबर 2019 में चीन हुई थी। जिसके बाद मार्च 2020 में, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना वायरस के प्रकोप को महामारी घोषित किया।

कोरोना वायरस के कारण हमारे देश के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार ने 23 मार्च 2020 को 21 दिनों के लिए पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई थी,, भारत में कोरोना वायरस महामारी पर काबू पाने के उपाय के रूप में भारत की संपूर्ण 1।3 बिलियन आबादी की आवाजाही को सीमित कर दिया गया था।

पूरे देश में इस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सभी शैक्षणिक संस्थानों और लगभग हर व्यावसायिक प्रतिष्ठान को बंद कर दिया गया था । इसके अलावा अंतर्राष्ट्रीय, साथ ही इंट्रा-स्टेट यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। सिर्फ यानि नहीं भारत ने सभी पर्यटक वीजा निलंबित कर दिए, क्योंकि दूसरे देश से आने वाले लोग संक्रमित पाए जा रहे थे।

इस दौरान हजारों प्रवासी श्रमिक अपने मूल स्थानों पर अपने परिवारों से मिलने के लिए निकल पड़े थे। COVID-19 महामारी के दौरान भारतीय प्रवासी कामगारों को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा है। पूरे देश में लॉक डाउन के चलते कारण कारखानों और कार्यस्थलों के बंद होने से लाखों प्रवासी वर्कर की आय बन हो गई थी, जिसकी वजह से उन्हें भोजन की कमी और अनिश्चितता का सामना करना पड़ा।

इस बीमारी से सभी तरह के उद्योग बुरी तरह से प्रभावित  हो गए थे। इसके अलावा इस बीमरी ने पर्यटन उद्योग पर सबसे बुरा प्रभाव डाला था। इस कोरोनावायरस की वजह से देश के नागरिकों के जीवन केसाथ-साथ वैश्विक अर्थव्यवस्था पर भी बहुत बुरा असर पड़ा है।

निष्कर्ष

केंद्रीय सरकार, सभी राज्यों की सरकार, स्वास्थ्य संगठन और अन्य प्राधिकरण लगातार COVID-19 से देश को मुक्त करने और नए मामलों की पहचान करने पर का कर रहें हैं।सभी स्वास्थ्य सेवा पेशेवरों को इन दिनों बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। कोरोना वायरस का संकट पूरी दुनिया पर है, इस महामारी ने कहर बरपाया है और मानव जीवन को हमेशा के लिए बदल दिया है। इसका असर और दुष्परिणाम वायरस के कम होने के काफी समय बाद तक महसूस किए जाएंगे।फिर भी ऐसे समय में हम आशा करते हैं एक मानव जाति कोविड 19 महामारी पर एक दिन जरुर विजय प्राप्त कर लेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*