ESSAY ON DIWALI IN Hindi: दीपावली पर निबंध कक्षा 4 6 7 8

1
119

Essay on diwali in hindi दीपावली जिसे “दिवाली” भी कहा जाता है, जो भारत का एक प्रमुख हिंदू त्योहार है। यह त्योहार पूरे देश में हिंदुओं धर्म के लोगों द्वारा बेहद उत्साह और खुशी के साथ मनाया जाता है। इस त्यौहार को 14 साल के वनवास के बाद भगवान राम के अयोध्या लौटने की याद में मनाया जाता है। राम भगवान हिंदू धर्म के सबसे लोकप्रिय देवता हैं जो अपनी सत्यता और पवित्रता के लिए पूजे जाते हैं।

हिंदू धर्म के लोगों का ऐसा मानना है कि जब राम भगवान अयोध्या वापस आये थे तो वहां ले लोगों ने उनके आने की खुशी में छोटे मिट्टी के तेल के दीयों को जलकर और अपने घरों और गलियों को सजाकर किया था। इसी वजह से आज भी हिंदू धर्म के लोग इस त्योहार को बड़ी ही धूम-धाम से मनाते हैं। दिवाली के दिन लोग अपने घरों को विभिन्न तरीकों से सजाते हैं, नए कपड़े पहनते हैं और पटाखे और आतिशबाजी जलाते हैं

LONG AND SHORT ESSAY ON DIWALI IN Hindi

दीवाली एक धार्मिक हिंदू त्योहार है, जिसे भारत के लोग अपने घरों, सड़कों, दुकानों, मंदिरों, बाजारों आदि में हर जगह दीपक जलाकर रोशनी के त्योहार के रूप में मानते हैं।

दिवाली एक ऐसा त्योहार है जिसे हिंदू धर्म के लोग दिवाली लोग बड़ी ही धूम-धाम के साथ मानते हैं और इसके आने का हर साल बड़ी ही बेसब्री के साथ इंतज़ार करते हैं। दिवाली का त्यौहार विशेष रूप से घर के बच्चों को बेहद पसंद आता है। क्योंकि बच्चे ही नए कपड़े और पटाखे जला कर इस त्यौहार का पूरा मजा उठाते हैं।

दिवाली के समय बहुत से स्कूल में दिवाली पर लंबे और छोटे निबंध (essay on diwali in hindi) प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है। अगर आप भी अपने बच्चे को दिवाली के इतिहास के बारे में बताना चाहते हैं या फिर दिवाली निबंध प्रतियोगिता का हिस्सा बनान चाहते हैं तो यहां से आप अपनी आवश्यकता के अनुसार दिवाली निबंध (essay on diwali ) का चयन कर सकते हैं।

short essay on diwali in hindi in 250 words

दिवाली हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है। दीपावली का त्योहार इतना खास होता है कि इसकी तैयारी त्योहार से हफ्तों पहले शुरू होती है। लोग अपने घरों और दुकानों

अच्छी तरह से साफ करते हैं और पुताई करते हैं। दिवाली से पहले घरों, दुकानों और ऑफिस की भी सफाई की जाती है। फिर उन्हें रंगबिरंगी लाइट लैंप, फूलों और अन्य सजावटी वस्तुओं से सजाया जाता है।

इस त्योहार पर लोग अपने परिवार के लोगों के लिए नए कपड़े, घर सजाने के लिए सामान और उपहार खरीदते हैं। इस समय के आसपास के बाजार कई तरह के गिफ्ट आइटम और मिठाइयों से भर जाते हैं। दिवाली का त्यौहार दुकानदारों के लिए बहुत अच्छा समय होता है क्योंकि इस समय हर तरह के सामानों की बिक्री काफी ज्यादा होती है। दिवाली का त्यौहार अपने रिश्तेदारों और पास के लोगों से मिलने का अच्छा समय होता है। लोग इस समय अपने आस-पास के लोगों के पास जाते हैं और इस दिन मिठाइयों और उपहारों का आदान प्रदान करते हैं।

दिवाली के दिन लोग अपने घरों को दीयों, मोमबत्तियों और रोशनी से रोशन करते हैं। घर की बेटियां रंगोली बनती है और घर को फूलों से सजाती हैं। दिवाली के दिन शाम के समय देवी लक्ष्मी और गणेश की पूजा भी की जाती है। देवी लक्ष्मी को धन की देवी माना जाता है और उनकी पूजा करने से समृद्धि और सौभाग्य आता है।

दिवाली को दीपों के त्योहार के रूप में भी जाना जाता है। लक्ष्मी जी और गणेश जी की पूजा करने के बाद लोग पटाखे जलाते हैं और अपनी प्रियजनों को मिठाई बांटते हैं। दिवाली को हिंदू कैलेंडर में सबसे शुभ दिनों में से एक माना जाता है।

long essay on diwali in hindi in 300 Words

essay on diwali in hindi for class 6 दीपावली को दिये के त्योहार के रूप में जाना जाता है । यह त्योहार पूरे भारत में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। दिवाली का त्योहार हर साल 14 साल के बाद भगवान राम की उनके राज्य अयोध्या में वापसी की याद में मनाया जाता है। इस त्योहार को मनाने के लिए घर में कई रस्में निभाई जाती हैं।

रोशनी का त्योहार है दिवाली

दिवाली रोशनी का त्यौहार है, जिसे दीप जलाकर मनाया जाता है। लोग हर साल इस मौके पर सुंदर मिट्टी के बर्तन खरीदते हैं और अपने पूरे घर को विभिन्न तरह की लाइट से रोशन करते हैं। ऐसा कहा जाता है कि भगवान राम, लक्ष्मण और सीता के स्वागत के लिए पूरे अयोध्या नगरी को लोगों ने दीपों से रोशन किया गया था। इसलिए लोग आज भी दिवाली के दिन इस अनुष्ठान का पालन करते हैं। माना जाता है कि यह देवी, देवताओं को प्रसन्न करने का एक तरीका है।

इस दिन लोग अपने घरों, कार्यालयों, मंदिरों और अन्य सभी स्थानों को लाइट से सजाते हैं इसके अलावा सुंदरता को और भी ज्यादा बढ़ाने के लिए मोमबत्तियां, दीये और सजावटी लाइटें भी जलाई जाती हैं। इस पवित्र त्योहार पर लोग अपने घर पर रंगोली बनाते हैं, और इसके सजाने के लिए इस खूबसूरत कृतियों के बीच दीया लगाया जाता है।

मिठाई और उपहारों का आदान-प्रदान

मिठाई और उपहारों का आदान-प्रदान दिवाली के प्रमुख अनुष्ठानों में से एक है। इस दिन लोग अपने रिश्तेदारों, पड़ोसियों, रिश्तेदारों और दोस्तों से मिलने जाते हैं और अपने रिश्ते को मजबूत करने के लिए उन्हें उपहार या मिठाई भेंट करते हैं। हिंदू संस्कृति में एक दूसरे के साथ मिलकर रहना सिखाया जाता है। दिवाली भी एक ऐसा त्योहार है जो भाईचारे और एकता की भावना को बढ़ावा देता है।

पहले के समय में लोग अपने रिश्तेदारों और खास लोगों को ड्राई फ्रूट और मिठाइयों आदान-प्रदान करते थे लेकिन आजकल लोग अनोखे और इनोवेटिव गिफ्ट आइटम्स देना पसंद करते हैं। दिवाली के मौके पर बाजार में कई आकर्षक उपहार उपलब्ध होते हैं। इस मौके पर लोग अपने कर्मचारियों के लिए उपहार भी खरीदते हैं और इस त्योहार को मनाने के लिए उनकी आर्थिक रूप से मदद भी करते हैं। बहुत से लोग तो दिवाली पर अनाथालय और वृद्धाश्रम भी जाते हैं और वहां उपहार बांटते हैं।

निष्कर्ष

दिवाली का बेहद खास होता है, लोग इस दिन का पूरे साल भर इंतज़ार करते हैं। दिव्लाई की तैयार लोग लगभग एक महीने पहले से ही शुरू कर देते हैं। इस दिन को लोग बहुत ही उत्साहपूर्वक और विभन्न अनुष्ठानों के साथ मानते हैं।

SHARE

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here